Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Delhi NewsBreaking News

Noida : ग्रेटर नोएडा से फरीदाबाद पहुंचना अब होगा आसान, यमुना नदी पर 315 करोड़ की लागत से तैयार किया जा रहा है बेहतरीन

Greater Noida Faridabad Bridge गौतमबुद्ध नगर और फरीदाबाद के बीच की दूरी कम करने के लिए पुल बनकर लगभग तैयार हो चुका है लेकिन पुल पर आवाजाही के लिए बनने वाली एप्रोच रोड का काम अभी तक शुरू नहीं हुआ है।

नोएडा। गौतमबुद्ध नगर और फरीदाबाद के बीच की दूरी कम करने के लिए पुल बनकर लगभग तैयार हो चुका है, लेकिन पुल पर आवाजाही के लिए बनने वाली एप्रोच रोड का काम अभी तक शुरू नहीं हुआ है। सड़क के लिए जमीन अधिग्रहण का प्रस्ताव पिछले करीब चार साल से शासन में अटका है।

शासन ने अब इस पर तेजी दिखाते हुए जमीन अधिग्रहण को धनराशि जारी करने के लिए लोक निर्माण विभाग से जानकारी मांगी है। शासन से धनराशि मिलते ही जमीन अधिग्रहण का काम शुरू हो जाएगा। गौतमबुद्ध नगर व फरीदाबाद के बीच आवाजाही के लिए कालिंदी कुंज, दिल्ली होते हुए दोनों शहरों के बीच आवाजाही के अलावा ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेस-वे का विकल्प हैं। दोनों रास्ते लंबे होने कारण समय अधिक लगता है। पुल 9 साल बाद हुआ तैयार

गौतमबुद्ध नगर और फरीदाबाद के बीच की दूरी कम कम करने के लिए गौतमबुद्ध नगर के अट्टा गुजरान और फरीदाबाद के मंझावली के बीच यमुना नदी पर पुल बनाने की योजना तैयार की गई थी। 2014 में इस पुल का शिलान्यास हुआ। तकरीबन नौ साल के लंबे वक्त के बाद अब यह पुल बनकर तैयार हो चुका है। हरियाणा की ओर एप्रोच रोड का निर्माण भी शुरू हो चुका है।

315 करोड़ की लागत से तैयार हुआ है पुल

यमुना नदी पर 315 करोड़ रुपये की लागत से 630 मीटर लंबा पुल तैयार किया गया है। इस पुल को हरियाणा सरकार ने बनवाया है। यमुना नदी के दोनों और हरियाणा की जमीन है। पुल की एप्रोच रोड के लिए भी हरियाणा का लोक निर्माण विभाग जमीन अधिगृहीत कर चुका है।

गौतमबुद्ध नगर की सीमा में अभी तक नहीं हुआ जमीन अधिग्रहण

यमुना नदी के इस पार (गौतमबुद्ध नगर से सटी) हरियाणा की जमीन है। पुल की एप्रोच रोड का करीब आधा किमी हिस्सा हरियाणा की सीमा में है। हरियाणा का लोक निर्माण विभाग इस जमीन को अधिगृहीत कर है। गौतमबुद्ध नगर की सीमा में करीब 17 सौ मीटर लंबी सड़क बनेगी, यह सड़क, हरियाणा की सीमा में बन रही सड़क से जुड़ेगी, लेकिन गौतमबुद्ध नगर में पड़ने वाले हिस्से में जमीन का अधिग्रहण प्रस्ताव अभी शासन में अटका हुआ है।

2019 में लोक निर्माण विभाग की ओर से यह प्रस्ताव भेजकर जमीन अधिग्रहण के लिए राशि जारी करने का अनुरोध किया गया था। पुल तैयार होने और हरियाणा में एप्रोच रोड का काम तेजी पकड़ने के बाद शासन की सुस्ती भी दूर हुई है। लोक निर्माण विभाग को जमीन अधिग्रहण के लिए आवश्यक राशि का आंकलन कर रिपोर्ट मांगी गई है।

जगनपुर अफजलपुर के निकट प्राधिकरण की सड़क से जुड़ेगी

पुल को जोड़ने वाली एप्रोच रोड जगनपुर अफजलपुर गांव के समीप प्राधिकरण की सड़क से जुड़ेगी। ग्रेटर नोएडा के फरीदाबाद के बीच की दूरी महज बीस मिनट में तय हो जाएगी। दोनों शहरों के बीच आवाजाही का नया विकल्प तैयार होने से दिल्ली में वाहनों का दबाव कम होगा।

समय से होता पुल निर्माण तो न होते गंभीर हालात

दिल्ली में आश्रम फ्लाओवर के निर्माण के कारण सड़क बंद कर दी गई है। इससे कालिंदी कुंज होकर दिल्ली को जोड़ने वाले मार्ग पर हालात गंभीर हो गए है। वाहनों का दबाव बढ़ने के कारण घंटों जाम की स्थिति बन रही है। अगर ग्रेटर नोएडा और फरीदाबाद के बीच पुल निर्माण समय से पूरा हो गया होता तो इसका आज फायदा मिलता।

लोक निर्माण विभाग (गौतमबुद्ध नगर) की अधिशासी अभियंता कंचन सिंह वर्मा ने बताया कि ग्रेटर नोएडा और फरीदाबाद के बीच यमुना नदी है। पहले लोग नाव से दोनों शहरों के लिए आते जाते थे। पुल निर्माण के लिए बनाए गए अस्थाई पुल से फिलहाल आवाजाही हो रही है। पुल के शुरू होने से बीस मिनट में दोनों शहरों के बीच आवाजाही हो जाएगी।

यतेंद्र प्रधान, अट्टा गुजरान एप्रोच रोड के लिए जमीन अधिग्रहण का प्रस्ताव पूर्व में शासन को भेजा गया था। शासन ने जमीन अधिग्रहण के लिए राशि जारी करने का रिपोर्ट मांगी है। जिला प्रशासन से राय लेकर यह रिपोर्ट शासन को भेजी जा रही है। जल्द ही जमीन अधिग्रहण का काम शुरू होने की उम्मीद है।

Tushar Tanwar

नमस्कार मेरा नाम तुषार तंवर है. मैं 2022 से हरियाणा न्यूज़ टुडे पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रहा हूं. मैंने आर्ट्स से बी ए की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करता हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब और ऑटोमोबाइल से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुँचाता हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं साथ ही नई गाड़ियों के बारे में जानकारी मिलती है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button