`जीएसटी इंस्पेक्टर की नौकरी छोडक़र बनी थी एक्ट्रेस, अब मनी लॉंड्रिंग के 264 करोड़ के घोटाले में आया नाम

-खानी पड़ सकती है जेल की हवा, जानिए कौन सी  है एक्ट्रेस 
 
 
कृति वर्मा का लॉंड्रिंग केस में आया नाम

जीएसटी इंस्पेक्टर की नौकरी छोड़ मॉडलिंग में दुनिया में उतरी एक्ट्रेस कृति वर्मा का नाम अब मनी लॉंड्रिंग के 264 करोड़ रुपए के घोटाले में जुड़ रहा है। ऐसे में अगर कृति वर्मा पर लगा आरोप साबित हो गया तो उन्हें जेल की हवा खानी पड़ेगी। प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने २६४ करोड़ रुपये के धोखाधड़ी वाले टीडीएस रिफंड से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में पूर्व आयकर निरीक्षक तानाजी अधिकारी, कृति वर्मा और उनके व्यवसायी प्रेमी भूषण पाटिल के खिलाफ विशेष अदालत में आरोप पत्र दायर किया है।

बता दें कि ईडी ने 264 करोड़ रुपये के टीडीएस घोटाले मामले में एक दर्जन से अधिक अभियुक्तों को नामित किया। जिनमें धोखाधड़ी के धन को रखने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली कंपनियां और इनसे जुड़े व्यक्ति शामिल हैं। ईडी ने मामले में 166 करोड़ रुपये की संपत्ति और कीमती सामान को कुर्क, जब्त और फ्रीज किया था और अपराध की शेष आय की जांच कर रहा है। पूर्व जीएसटी निरीक्षक से अभिनेत्री बनीं कृति वर्मा अब चार्जशीट के बाद इस घोटाले में बुरी फंसती नजर आ रही हैं।


कृति वर्मा ने किसी भी गलत काम से इनकार किया है। उन्होंने कहा कि वह कथित रूप से धोखाधड़ी करने के तीन साल से अधिक समय बाद 2020  में पाटिल के जीवन में आई थी, और दावा किया कि उसका अधिकारी के साथ कोई संबंध नहीं था। भूषण पाटिल, जो पूर्व बिग बॉस और रोडीज एक्सट्रीम प्रतिभागी कृति वर्मा के साथ रिश्ते में था, अधिकारी के साथ एक प्रमुख आरोपी है। ईडी ने कहा कि अवैध रूप से अर्जित धन का अधिकांश हिस्सा पाटिल के खाते में डाला गया था। धन का एक हिस्सा संपत्ति खरीदने के लिए इस्तेमाल किया गया था, जिसमें कृति वर्मा के नाम पर भी कुछ प्रॉपर्टी शामिल है।


कृति वर्मा ने अपने बयान में कहा है कि पाटिल के साथ उनके रिश्ते में आने से पहले उन्होंने एक डांस परफॉर्म किया था। उस परफॉर्मेंस का भुगतान उन्हें 1 करोड़ रुपये किया गया था। उन्होंने कहा कि एक जिम्मेदार नागरिक के रूप में आरोपी के खिलाफ प्रासंगिक जानकारी प्रदान करके एजेंसियों की मदद की। कृति वर्मा का कहना है कि अपराध होने के बाद, 2020 के अंत में एक डांस शो के दौरान पाटिल से मिलने के बाद उनका पाटिल के साथ रिलेशन बना। कृति ने दावा किया कि धोखाधड़ी के बारे में जानने के 6 महीने के भीतर वह भूषण पाटिल से अलग हो गई थीं। ईडी ने अस्थायी रूप से उनकी संपत्ति कुर्क की है।


नवंबर 2019 से नवंबर 2020 तक अधिकारी ने 264 करोड़ रुपये के 12 फर्जी टीडीएस रिफंड को मंजूरी दी थी। अधिकारी को 2021 में आई-टी इंस्पेक्टर के रूप में पदोन्नत भी किया गया था। वह उस समय बेनकाब हो गया था जब एक सरकारी खाते से ठगी गई राशि को ट्रांसफर करने वाले बैंक ने इसकी शिकायत की। जनवरी 2022 में सीबीआई ने अधिकारी, पाटिल और चार अज्ञात व्यक्तियों को नामजद करते हुए धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया। सीबीआई की प्राथमिकी में कृति वर्मा का नाम नहीं था। इसके बाद ईडी ने एफआईआर के आधार पर लॉन्ड्रिंग का मामला दर्ज किया।


​गुरुग्राम में खरीदी प्रॉपर्ट, फिर बेची​
पाटिल ने कथित तौर पर 2.5 करोड़ रुपये से अधिक के अपराध की आय को कृति वर्मा के खाते में डायवर्ट किया, जिसमें से 1 करोड़ रुपये से अधिक का उपयोग 2021 में हरियाणा के गुरुग्राम में एक संपत्ति खरीदने के लिए किया गया था। पाटिल सीबीआई और ईडी की जांच का सामना कर रहे थे। इसके बाद वर्मा ने संपत्ति को 1.18 करोड़ रुपये में बेच दिया और अपने खाते में पैसा प्राप्त किया, जिसे ईडी ने मामले में फ्रीज कर दिया। ईडी ने कृति वर्मा के पिता की भी जांच की थी, क्योंकि अपराध की आय का एक हिस्सा उसे अपने पिता के साथ एक संयुक्त बैंक खाते में प्राप्त हुआ था।


​जीएसटी इंस्पेक्टर की नौकरी छोड़कर बनीं एक्ट्रेस​
कृति ने जीमैट की परीक्षा दी और जीएसटी अधिकारी बनीं। वह मुंबई आई और रोडीज एक्सट्रीम में हिस्सा लिया। रोडीज में, कृति की मुलाकात सुरभि राणा से हुई और दोनों ने एक प्यार-नफरत का रिश्ता साझा किया। कृति बीबी 12 की पहली कप्तान बनीं और घर के अंदर नियम तोड़ने के लिए जानी गईं। कृति शो नहीं जीत पाईं लेकिन फिर भी अपने अभिनय से दर्शकों का ध्यान खींचने में सफल रहीं।

Tags