Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Haryana News

HARYANA NEWS TODAY: रोडवेज बसों में हो रही गड़बड़ी पर अब लगेगी लगाम, डिपो में आई ई-टिकटिंग मशीनें

करनाल :- हरियाणा के करनाल में आने वाले दिनों में रोडवेज की बसों में ई-टिकटिंग की सुविधा देखने को मिल सकती है। इतना ही नहीं यात्रियों की सुविधा के लिए बस डिजिटल भी होगी। करनाल डिपो में 20 ई-टिकटिंग मशीनें भी आ चुकी हैं और ये मशीनें रोजाना काम कर रही हैं और किस तरह की दिक्कतें सामने आ रही हैं। इसकी जांच के लिए एक कमेटी बनाई गई है।

हरियाणा रोडवेज की बसों में टिकट काटने के दौरान कंडक्टरों द्वारा की जाने वाली धांधली को रोकने और कार्य में पारदर्शिता लाने के लिए ई-टिकटिंग योजना शुरू की गई है। जिसे करनाल, फरीदाबाद, सोनीपत, भिवानी, सिरसा और चंडीगढ़ में पायलट प्रोजेक्ट के आधार पर शुरू किया गया था। अब इसका विस्तार पूरे हरियाणा में किया जाएगा।

कुछ मार्गों पर किराया मुद्दा

रोडवेज के जीएम कुलदीप सिंह ने जानकारी देते हुए बताया कि फिलहाल सरकार ने पायलट प्रोजेक्ट के लिए सिर्फ छह डिपो का चयन किया है. ई-टिकटिंग का रिजल्ट कैसे निकलता है, इसकी रिपोर्ट उच्चाधिकारियों को भेजी जाएगी। अगर यह पायलट प्रोजेक्ट सफल रहा तो पूरे हरियाणा में ई-टिकटिंग सिस्टम लागू कर दिया जाएगा।

के कारण निर्णय लिया

उन्होंने बताया कि करनाल डिपो से रोजाना 20 ई-टिकटिंग मशीनें जा रही हैं। कुछ रूटों पर किराए को लेकर विवाद है, जिसके लिए मुख्यालय ने कमेटी गठित कर दी है। कमेटी अपनी रिपोर्ट मुख्यालय को सौंपेगी। जिसके बाद सभी रूटों पर ई-टिकटिंग सिस्टम लागू कर दिया जाएगा। अधिकारियों के मुताबिक ई-टिकटिंग सिस्टम के लागू होने से पारदर्शिता आएगी। जिससे संचालकों द्वारा की जाने वाली किसी भी प्रकार की गड़बड़ी पर अंकुश लगाया जा सके। बस के प्रत्येक यात्री को ई-टिकट जारी किया जाएगा।

समझें कि ई-टिकटिंग क्या है

ई-टिकटिंग की कार्यप्रणाली के संबंध में रोडवेज के अधिकारियों ने बताया कि मशीन में जीपीएस सिस्टम लगा हुआ है. बस की मौजूदा लोकेशन जहां भी होगी, वहीं से टिकट कट जाएगा। इसे ऐसे भी समझा जा सकता है कि अगर करनाल से कैथल जाने वाली बस चिढ़ाव पहुंच गई है तो कंडक्टर चिढ़ाव में खड़े होकर करनाल से कैथल का टिकट नहीं काट सकता.

ऐसे में जो परिचालक यात्रियों से किराए के पैसे लेते थे और टिकट नहीं देते थे, जब परिचालक सामने देखता कि चेकिंग वाले आ गए हैं तो वह तुरंत यात्री को टिकट सौंप देता था, लेकिन अब कंडक्टर कंडक्टर इस तरह ठगी नहीं कर पाएगा। मशीन में तुरंत टिकट कटने पर कंडक्टर पकड़ा जाएगा।

किराए के अंतर को खत्म करने का प्रयास

ई-टिकटिंग के जरिए किराए के अंतर को खत्म करने की कोशिश की जा रही है। अधिकारियों की माने तो रोडवेज बसों में समान किराया को लेकर कमेटी बना दी गई है। चूंकि कई रूटों पर दो, चार या पांच रुपए का अंतर है, इसलिए समिति इस पर काम कर रही है। जरूरत पड़ी तो सर्वे भी किया जाएगा। जिससे रोडवेज संचालकों की परेशानी भी कम होगी। इतना ही नहीं ई-टिकटिंग की तरह यात्रियों का बस पास भी डिजिटल होगा।

haryananewstoday

मस्कार दोस्तों मेरा नाम सनी सिंह है. मैं हरियाणा न्यूज़ टुडे वेबसाइट पर एडमिन टीम से हूँ. मैंने मास्स कम्युनिकेशन से MBA और दिल्ली यूनिवर्सिटी से जर्नलिज्म का कोर्स किया हुआ है. मैंने खबरी एक्सप्रेस में भी बतौर कंटेंट राइटर काम किया है. फ़िलहाल मैं रियाणा न्यूज़ टुडे पर आपके लिए सभी स्पेशल केटेगरी की पोस्ट लिखता हूँ. आप मेरी पोस्ट को ऐसे ही प्यार देते रहे. धन्यवाद

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button