Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Delhi News

मेल एक्सप्रेस और सुपरफास्ट एक्सप्रेस में अंतर देकर आपके रोंगटे खड़े हो जाएंगे

नई दिल्ली :- भारत में हर दिन करोड़ों लोग ट्रेन से सफर करते हैं. ट्रेन की कई कैटेगरी बनाई गई हैं जैसे पैसेंजर, मेल, एक्‍सप्रेस और सुपरफास्‍ट ट्रेन. इनके कैटेगरी के हिसाब से टिकट के रेट में भी फर्क हो जाता है. आपने भी कई बार इन ट्रेनों में सफर किया होगा. लेकिन क्‍या आप इनके बीच के अंतर को जानते हैं?

Indian Railways को तमाम लोग देश की लाइफ लाइन कहते हैं. पूरे भारत में आपको कहीं भी जाना हो, ट्रेन की सुविधा ज्‍यादातर जगहों के लिए उपलब्‍ध है. दूसरे साधनों की तुलना में ट्रेन काफी किफायती और सुविधाजनक होती है, जिसके कारण लंबी दूरी भी ट्रेन से आसानी से तय की जा सकती है. भारत में हर दिन करोड़ों लोग ट्रेन से सफर करते हैं. ट्रेन की कई कैटेगरी बनाई गई हैं जैसे पैसेंजर, मेल, एक्‍सप्रेस और सुपरफास्‍ट ट्रेन. इनके कैटेगरी के हिसाब से टिकट के रेट में भी फर्क हो जाता है. आपने भी कई बार इन ट्रेनों में सफर किया होगा. लेकिन क्‍या आप इनके बीच के अंतर को जानते हैं? आइए आपको बताते हैं इस बारे में.

मेल एक्‍सप्रेस

लखनऊ मेल, कालका मेल, मुंबई मेल वगैरह-वगैरह. इस तरह की कई मेल ट्रेनें चलाई जाती हैं. इनकी स्‍पीड और एक्‍सप्रेस ट्रेन की स्‍पीड में बहुत फर्क नहीं होता है. दोनों की स्‍पीड औसत ही होती है. ये ट्रेनें ज्‍यादातर 50 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार से चलती हैं और बीच-बीच में कई स्‍टेशनों पर रुकती हुईं अपने गंतव्‍य की ओर बढ़ती हैं. ज्‍यादातर इन ट्रेनों का नंबर 123 से शुरू होता है.

एक्सप्रेस ट्रेन (Express Train) सुपरफास्‍ट की तुलना में धीरे चलती हैं, लेकिन इनकी स्‍पीड मेल से थोड़ी ज्‍यादा होती है. यानी आप इन्‍हें मेल और सुपरफास्‍ट के बीच की कैटेगरी मान सकते हैं. इनकी स्‍पीड करीब 55 किमी. प्रति घंटे के हिसाब से होती है, लेकिन ये मेल की तरह जगह-जगह नहीं रुकतीं. इनके स्‍टॉपेज मेल की तुलना में कम होते हैं. इस कारण इनकी सर्विस मेल की तुलना में बेहतर हो जाती है.

सुपरफास्‍ट ट्रेन

सुपरफास्ट ट्रेन (Superfast Train) की स्पीड इन दोनों से कहीं ज्‍यादा होती है और इनके स्‍टॉपेज बहुत कम होते हैं. ज्‍यादातर सुपरफास्‍ट ट्रेनें, 100 किमी. प्रति घंटे की रफ्तार या इससे भी तेज स्‍पीड से चलती हैं. मेल-एक्सप्रेस या एक्सप्रेस ट्रेन की तुलना में इनका किराया भी ज्‍यादा होता है. ज्‍यादातर ये ट्रेनें लंबी दूरी को कवर करती हैं.

पैसेंजर ट्रेन

इनके अलावा एक पैसेंजर ट्रेन भी होती है. पैसेंजर ट्रेन बहुत छोटी दूरी के लिए चलाई जाती हैं. इसमें लगे सभी डिब्बे जनरल होते हैं. ये हर छोटे-छोटे स्‍टेशन पर रुकती हुई जाती है. इस कारण इनकी स्‍पीड भी काफी कम रखी जाती है.

 

Tushar Tanwar

नमस्कार मेरा नाम तुषार तंवर है. मैं 2022 से हरियाणा न्यूज़ टुडे पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रहा हूं. मैंने आर्ट्स से बी ए की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करता हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब और ऑटोमोबाइल से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुँचाता हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं साथ ही नई गाड़ियों के बारे में जानकारी मिलती है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button