Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Breaking NewsDelhi NewsHaryana News

सस्ता पेट्रोल-डीजल मिलेगा, किसानों को भी होगा बहुत फायदा PPP मॉडल पर बना देश का पहला एथेनॉल प्लांट तैयार

सस्ता पेट्रोल-डीजल मिलेगा, किसानों को भी होगा बहुत फायदा PPP मॉडल पर बना देश का पहला एथेनॉल प्लांट तैयार

छत्तीसगढ़ में पीपीपी के जरिए तैयार देश का पहला एथेनॉल प्लांट बनकर तैयार हो गया है. यहां गन्ने के रस का इस्तेमाल करके एथेनॉल बनाया जाएगा. बता दें,  अप्रैल महीने से इस प्लांट में उत्पादन शुरू होने की उम्मीद है. इससे किसानों को भी फायदा मिलेगा. वहीं, पेट्रोल-डीजल भी सस्ता हो सकता है. आइए जानते हैं क्या होगा एथेनॉल का फायदा.

छत्तीसगढ़ में नया एथेनॉल प्लांट करीब-करीब तैयार हो चुका है. यह पीपीपी (पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) के जरिए तैयार देश का पहला एथेनॉल प्लांट होगा. अप्रैल महीने से इस प्लांट में उत्पादन शुरू होने की उम्मीद है.  कवर्धा जिले में भोरमदेव शक्कर कारखाने के बगल में इस प्लांट को स्थापित किया गया है. यहां गन्ने के रस का इस्तेमाल करके एथेनॉल बनाया जाएगा.  बता दें कि  2020 में सीएम भूपेश बघेल की अध्यक्षता में मंत्रिमंडल ने इस प्लांट की मंजूरी दी थी. इस प्लांट को लगाने के लिए युद्ध स्तर पर काम चला और अब यह उत्पादन के लिए तैयार है. एक अनुमान के मुताबिक, 80 किलोलीटर उत्पादन का लक्ष्य भी निर्धारित किया गया है, जिसे भविष्य में और भी बढ़ाने की योजना है.

क्या है एथेनॉल का फायदा?


दरसअल, एथेनॉल को पेट्रो पदार्थों यानी पेट्रोल और डीजल आदि में मिश्रण करने की मंजूरी मिली है. इससे काफी मात्रा में पेट्रो पदार्थों की बचत होगी. साथ ही एथेनॉल के अत्यधिक ज्वलनशील होने के कारण भविष्य में यह पेट्रो पदार्थों का विकल्प भी बन सकता है. विशेषज्ञों के मुताबिक, एथेनॉल के उत्पादन से राज्य में पेट्रोल-डीजल के रेट में कमी आ सकती है. वहीं, एथेनॉल के इस्तेमाल से गाड़ियों के इंजन की उम्र भी बढ़ती है. इसके अलावा, एथेनॉल निर्माण के लिए छत्तीसगढ़ के किसानों से ज्यादा से ज्यादा गन्ना खरीदना संभव हो सकेगा. यानी किसानों को फसल की ज्यादा और पूरी कीमत मिल पाएगी.

गन्ने की खरीद जारी

भोरमदेव कारखाने में बड़ी तादाद में गन्ना पहुंचना शुरू हो चुका है. एक अनुमान के मुताबिक, रोज करीब पांच सौ ट्रैक्टर गन्ने की पर्चियां कट रही हैं. इनका रस शक्कर कारखाने से सटे 35 एकड़ में बने एथेनॉल प्लांट में जाएगा. बता दें कि कवर्धा जिले में 30 हजार हेक्टेयर में गन्ना लगाया जाता है. यहां 450 छोटी गुड़ फैक्ट्रियां हैं, जिनमें से 250 चालू हैं. इस प्लांट के पूरा होने के पूर्व गन्ने के बंद कारखानों को भी फिर से शुरू किया गया है. ऐसे में जाहिर है कि एथेनॉल का उत्पादन भविष्य में और बढ़ेगा.

 

 

गन्ने की खेती पर जोर

एथेनॉल के उत्पादन के लिए सरकार की योजना है कि गन्ने की खेती वाले इलाकों के रकबों को बढ़ाया जाएगा. इसके लिए जमीनी स्तर पर काम करने के लिए कृषि विभाग ने खाका भी तैयार कर लिया है. सिंचाई की व्यवस्था और गन्ने के खेती के लिए मुफीद मृदा का परीक्षण भी इसमें शामिल है. सरकार का जोर है कि किसानों को गन्ने की खेती के लिए प्रोत्साहित किया जाए. इससे किसानों की सालाना आय तो बढ़ेगी ही, साथ ही पेट्रो पदार्थ के विकल्प एथेनॉल के उत्पादन का दायरा भी बढ़ेगा.

Tushar Tanwar

नमस्कार मेरा नाम तुषार तंवर है. मैं 2022 से हरियाणा न्यूज़ टुडे पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रहा हूं. मैंने आर्ट्स से बी ए की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करता हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब और ऑटोमोबाइल से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुँचाता हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं साथ ही नई गाड़ियों के बारे में जानकारी मिलती है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button