Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Breaking NewsDelhi News

बजट 2023: हो गया फैसला! इस बार Income Tax नहीं, व‍ित्‍त मंत्री सैलरीड क्‍लॉस को इस पर देंगी बड़ी राहत

Standard Deduction Relief: कोरोना महामारी के कारण सैलरीड क्‍लॉस को 2022-23 के आम बजट में क‍िसी तरह की राहत नहीं म‍िल पाई. इस बार 2023-24 के बजट में व‍ित्‍त मंत्री न‍िर्मला सीतारमण से काफी उम्‍मीदें की जा रही हैं. इसका कारण यह भी है क‍ि चुनाव से पहले यह सरकार का आख‍िरी पूर्ण बजट है. ऐसे में उम्मीद है कि वित्त मंत्री महामारी के बाद बढ़ती महंगाई दर को देखते हुए नौकरीपेशा लोगों को कुछ राहत देंगी.

टैक्‍स एक्‍सपर्ट ने की स‍िफार‍िश

इस बार के बजट के लिए टैक्‍स एक्‍सपर्ट ने नौकरीपेशा के ल‍िए स्‍टैंडर्ड ड‍िडक्‍शन की ल‍िम‍िट बढ़ाने की सिफारिश की है. जानकारों का कहना है कि फाइनेंस म‍िनिस्‍ट्री को नौकरीपेशा वर्ग के लिए टैक्‍स र‍िबेट देनी चाहिए. दरअसल, ऑफ‍िस के फ‍िर से खुलने के कारण ट्रांसपोर्ट, क‍िराये आद‍ि में खर्च बढ़ने के कारण राहत देना जरूरी हो गया है. इतना ही नहीं महामारी के समय कुछ कंपनियों ने कर्मचारियों से किराये के घर को खाली करने और होमटाउन वापस जाने के लिए कहा था.

75 हजार रुपये हो जाएगा स्‍टैंडर्ड ड‍िडक्‍शन!

अब जब कंपन‍ियां कर्मचार‍ियों को वापस बुला रही हैं. ऑफ‍िस ज्‍वाइन करने के ल‍िए फ‍िर से द‍िल्‍ली- एनसीआर या अन्‍य शहरों में लौटने से कई चीजों की लागत बढ़ गई है. ऐसे में स्‍टैंडर्ड ड‍िडक्‍शन की राश‍ि को अपडेट करने की जरूरत है. इस बार के यून‍ियन बजट से उम्‍मीद है क‍ि व‍ित्‍त मंत्री स्‍टैंडर्ड ड‍िडक्‍शन को 50 हजार रुपये से बढ़ाकर 75 हजार रुपये कर सकती हैं. इससे टैक्‍सपेयर को जरूरत राहत म‍िलेगी.

क्‍या है स्‍टैंडर्ड ड‍िडक्‍शन

नौकरीपेशा को सभी तरह के खर्च पर टैक्‍स से राहत देने के ल‍िए व‍ित्‍त मंत्रालय की तरफ से एक ल‍िम‍िट तय की गई है. मेड‍िकल, ट्रांसपोर्ट अलाउंस आद‍ि के खर्च के तौर पर 40,000 रुपये के स्‍टैंडर्ड ड‍िडक्‍शन को साल 2018-19 में फ‍िर से शुरू क‍िया गया. इससे पहले सैलरीड क्‍लॉस को आयकर से राहत देने के ल‍िए 19,200 रुपये और 15,000 रुपये का ट्रांसपोर्ट अलाउंस और मेड‍िकल अलाउंस द‍िया जाता था. यह दोनों म‍िलाकर 34,200 रुपये की कटौती होती थी.

 

इसके बाद स्‍टैंडर्ड ड‍िडक्‍शन को बढ़ाकर 40,000 रुपये क‍िया गया और बाद में इसे 50,000 रुपये क‍िया गया. इस फ्लैट अमाउंट को टैक्‍सपेयर की ग्रास सैलरी से कम क‍िया जाता है. इस टैक्‍स से राहत म‍िलती है. यह हर नौकरीपेशा के वेतन से काटा जाता है. इसके तहत छूट प्राप्‍त करने के ल‍िए क‍िसी प्रकार के दावे की जरूरत नहीं होती.

Tushar Tanwar

नमस्कार मेरा नाम तुषार तंवर है. मैं 2022 से हरियाणा न्यूज़ टुडे पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रहा हूं. मैंने आर्ट्स से बी ए की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करता हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब और ऑटोमोबाइल से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुँचाता हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं साथ ही नई गाड़ियों के बारे में जानकारी मिलती है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button