Join Telegram Group Join Now
WhatsApp Group Join Now
Delhi News

Air Pollution in Delhi: दिल्ली NCR में प्रदूषण को देखते हुए लगाये गये ये प्रतिबंध, निर्माण पर लगी रोक

Delhi NCR में सासों का संकट बना हुआ है। दिल्ली की जहरीली हवा को देखते हुए एक बार फिर ग्रेप-3 के प्रतिबंध लगाए गए है। इन प्रतिबंधों के लगने से दिल्ली NCR में अब गैर जरूरी निर्माण कर्यों पर रोक लग गई है।

नई दिल्ली, पीटीआई। दिल्ली NCR में सासों का संकट बना हुआ है। दिल्ली की जहरीली हवा को देखते हुए एक बार फिर ग्रेप-3 के प्रतिबंध लगाए गए है। इन प्रतिबंधों के लगने से दिल्ली NCR में अब गैर जरूरी निर्माण कर्यों पर रोक लग गई है। इसके अलावा ग्रेप-3 के अन्य प्रतिबंध भी लगाए गए है। दिल्ली में ठंड के साथ-साथ हवा प्रदूषण भी लगातार बढ़ते जा रहा है।

Air Pollution in Delhi: दिल्ली NCR में प्रदूषण को देखते हुए लगाये गये ये प्रतिबंध, निर्माण पर लगी रोक

प्रदूषण से बचने के उपाय

डॉक्टरों के मुताबिक दिल्ली के प्रदूषण से बचने के लिए लोगों को मास्क का उपयोग करना चाहिए। जानकारों के मुताबिक घर से बाहर निकलना लोगों को कम करना चाहिए। इसके अलावा प्रदूषण से अगर लोगों को आखों में परेशानी होती है तो आई ड्रॉप का इस्तमाल करना चाहिए।

दूसरी तरफ वायु गुणवत्ता बिगड़ते ही शुक्रवार शाम साढ़े चार बजे वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (सीएक्यूएम) की आपात बैठक हुई। इसमें कहा गया है कि अभी अगले कई दिन तक दिल्ली में हवा की गुणवत्ता ”गंभीर” या ”बेहद खराब” श्रेणी में रह सकती है। इसीलिए आयोग की उप समिति ने दिल्ली एनसीआर में ग्रेप के तीसरे चरण के तहत नौ सूत्री एक्शन प्लान को तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया है। इसके तहत दिल्ली एनसीआर में निर्माण कार्य, तोड़फोड़, ईंट भट्टे और हाट मिक्स प्लांट के संचालन पर रोक लगा दी गई है। मालूम हो कि अभी दो दिन पहले ही यह रोक हटाई गई थी।

 

आयोग ने राज्य सरकार को दिया निर्देश

साथ ही आयोग ने राज्य सरकारों को निर्देश दिया है कि यदि वे चाहें तो बीएस-3 पेट्रोल और बीएस-4 डीजल के चार पहिया वाहनों पर रोक लगा सकती हैं। इसके अलावा दिल्ली एनसीआर से संबंधित राज्यों के प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और संबंधित एजेंसियों को ग्रेप के तीसरे चरण को सख्ती से लागू करने का निर्देश दिया है।आयोग ने स्वच्छ ईंधन का इस्तेमाल नहीं करने वाले औद्योगिक इकाइयों को बंद कराने का निर्देश भी दिया है। साथ ही आयोग ने कारपोरेट क्षेत्र को सुझाव दिया है कि जहां संभव हो वहां वर्क फ्राम होम की व्यवस्था लागू होनी चाहिए। इसके अलावा लोगों से अपील की है कि वे आवागमन के लिए सार्वजनिक परिवहन के माध्यमों व साइकिल का इस्तेमाल अधिक करें।

Tushar Tanwar

नमस्कार मेरा नाम तुषार तंवर है. मैं 2022 से हरियाणा न्यूज़ टुडे पर कंटेंट राइटर के रूप में काम कर रहा हूं. मैंने आर्ट्स से बी ए की है. मेरा उद्देश्य है कि हरियाणा की प्रत्येक न्यूज़ आप लोगों तक जल्द से जल्द पहुंच जाए. मैं हमेशा प्रयास करता हूं कि खबर को सरल शब्दों में लिखूँ ताकि पाठकों को इसे समझने में कोई भी परेशानी न हो और उन्हें पूरी जानकारी प्राप्त हो. विशेषकर मैं जॉब और ऑटोमोबाइल से संबंधित खबरें आप लोगों तक पहुँचाता हूँ जिससे रोजगार के अवसर प्राप्त होते हैं साथ ही नई गाड़ियों के बारे में जानकारी मिलती है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button