Paddy Procurement: हरियाणा में धान की खरीद हुई बंद, अब राइस मिलों में होगा स्टॉक का भौतिक सत्यापन

चंडीगढ़ :- हरियाणा में धान की हो रही फर्जी खरीद को लेकर Deputy CM ने अहम कदम उठाया है. डिप्टी सीएम ने हरियाणा निवास में पत्रकारों के साथ वार्तालाप के दौरान बताया कि मंगलवार को प्रदेश में धान की सरकारी खरीद बंद कर दी गई है. प्रदेश सरकार के द्वारा धान की खरीद पूरी कर लेने के बाद December में राइस मिलों में Stock का भौतिक सत्यापन करवाया जाएगा. चालू खरीद सीजन के दौरान सरकार ने 57 लाख टन धान खरीदने का लक्ष्य रखा था परंतु 58.60 लाख टन धान की खरीद की गई.

राइस मिलर्स कर रहे धान की फर्जी खरीद

राइस मिलर्स धान की फर्जी खरीद के लिए ऐसे- ऐसे हथकंडे अपना रहे हैं, जिन्हें देखकर Deputy CM भी हैरान है. मामला तब सामने आया जब राइस मिलों में क्षमता जांचने के लिए लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग विभाग की टीमें पहुंची और जांच के दौरान पाया कि एक Rice मिलर्स ने स्कूटर के नंबर पर धान की लिफ्टिंग दिखाई हुई थी. इसलिए फर्जीवाड़े पर रोक लगाने के लिए डिप्टी CM ने लिफ्टिंग में प्रयोग होने वाले वाहनों को ई परिवहन पर सत्यापित करवाने के आदेश दिए हैं.

चुनाव खत्म होते किसानों को दी जाएगी मुआवजा राशि

जानकारी के लिए बता दे कि प्रदेश में 1456 राइस मिलर्स धान की मिलिंग के लिए पंजीकृत हैं. वही 98.7 प्रतिशत धान की लिफ्टिंग मंडियों से हो चुकी है. इसके अलावा Deputy CM ने बताया कि पंचायत चुनाव के खत्म होते ही किसानों को उनकी खराब फसलो का मुआवजा दिया जाएगा, और मुआवजा राशि सीधे किसानों के खाते में भेजी जाएगी. इसके अलावा उन्होंने कहा कि प्रदेश में पहली बार 98% किसानों की Payment 48 घंटों के अंदर सीधे उनके खातों में पहुंच पाई है.

GST कलेक्शन में हुई 23% वृद्धि

GST कलेक्शन के मामले में हरियाणा अग्रिम स्थान पर है. अबकी बार 18,290 करोड़ों रुपये का GST कलेक्शन हुआ है, जबकि पिछली बार 14,203 करोड़ रूपये का कलेक्शन हुआ था. अबकी बार GST कलेक्शन और आबकारी विभाग के राजस्व में 23- 23% की वृद्धि हुई है. बता दें कि वर्ष 2020-21 मे 6790 करोड़ रुपए, 2021- 22 में 7,390 करोड़ रुपए और 2022- 23 में 5,736 करोड़ रूपए राजस्व आ चुका है. इसके अलावा शराब की तस्करी रोकने के लिए 28 February 2023 तक सभी डिस्टिलरी और बॉटलिंग Plant पर नजर रखने के लिए CCTV लगाए जाएंगे.

Leave a Comment

Your email address will not be published.