दिल्ली एनसीआर और उत्तराखंड में भूकंप झटके, हफ्ते में दूसरी बार हिली धरती

नई दिल्ली :- दिल्ली-एनसीआर के साथ ही उत्तराखंड में आज शाम को भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए। धरती हिलने से घरों और दफ्तरों में मौजूद लोग बाहर निकल गए। भूकंप की तीव्रता 5.4 मापी गई है। भूकंप का केंद्र नेपाल बताया गया है। दिल्ली में नौ नवंबर को भी तेज भूकंप के झटके महसूस हुए थे। उस वक्त भी केंद्र नेपाल ही बताया गया था। आज उत्तराखंड में दो बार भूकंप के झटके महसूस हुए हैं। जानमाल को लेकर नुकसान होने की अभी तक कोई खबर सामने नहीं आई है।

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक चंद्र ग्रहण के बाद से भूकंप की घटनाएं सामने आ रही हैं। आज भी दिल्ली एनसीआर के साथ ही उत्तराखंड में शाम 7 बजकर 57 मिनट पर भूकंप का झटका आया। इससे लोग तुरंत अपने घरों और दफ्तरों को छोड़कर बाहर सड़क पर आ गए। बता दें कि इससे पूर्व नौ नवंबर को चंद्र ग्रहण के बाद सिलसिलेवार भूकंप के कई झटके महसूस हुए थे। तब भूकंप की तीव्रता 6.3 मापी गई थी। इस भूकंप में मकान ढहने से छह लोगों की मौत हुई थी।

इससे पूर्व आठ नवंबर को रात नौ बजे भी भूकंप के झटके महसूस हुए। इसके बाद 8-9 की मध्य रात्रि दो बजे और फिर सुबह सवा तीन बजे भूकंप के झटके महसूस हुए। भारत में आठ नवंबर को भी दोपहर 12 बजे मिजोरम में भूकंप आया, जिसकी तीव्रता रिक्टर स्केल पर 4.4 दर्ज की गई थी।

वैज्ञानिकों का कहना है कि हिमालय क्षेत्र में बड़े भूकंप की आशंका बनी है। हिमालय भूकंप की दृष्टि से बेहद संवेदनशील है। भूकंप के लिहाज से दिल्ली एनसीआर को सबसे ज्यादा संवेदनशील बताया गया है। दरअसल, दिल्ली एनसीआर में तंग गलियों में बहुमंजिला इमारतें हैं। इमारतें भी पुरानी हैं। वहीं हाई राइज बिल्डिंग भी हैं। ऐसे में सात से अधिक तीव्रता वाला भूकंप आता है तो दिल्ली एनसीआर में बड़ी तबाही हो सकती है। वैज्ञानिकों ने भूकंप से बचने के लिए पुख्ता तैयारियां करने की सलाह दे रखी है।

Leave a Comment

Your email address will not be published.