CET: संयुक्त पात्रता परीक्षा के लिए दिशानिर्देश जारी, पांचवां विकल्प भरने के लिए अलग से मिलेंगे 5 मिनट

चंडीगढ़ :- हरियाणा में तृतीय श्रेणी (ग्रुप-सी) के 26 हजार पदों की भर्ती के लिए पांच और छह नवंबर को होने वाली संयुक्त पात्रता परीक्षा (Combined Eligibility Test CET) में परीक्षार्थियों को पांचवां विकल्प भरने के लिए पांच मिनट अलग से दिए जाएंगे. परीक्षा में कुल 100 प्रश्न पूछे जाएंगे, जिनके लिए 100 मिनट का समय परीक्षार्थियों को दिया जाएगा. इस प्रकार परीक्षा का कुल समय 105 मिनट होगा.

मुख्य सचिव संजीव कौशल ने परीक्षा की तैयारियों को लेकर शुक्रवार को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से उपायुक्तों, पुलिस अधीक्षकों और रोडवेज महाप्रबंधकों के साथ समीक्षा बैठक की. इस दौरान हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग के अध्यक्ष भोपाल सिंह खदरी, परिवहन विभाग के प्रधान सचिव नवदीप विर्क उनके साथ थे.

मुख्य सचिव ने कहा कि परीक्षा केंद्रों का रैंडमली आवंटन किया जाएगा. दिव्यांग अभ्यर्थियों के लिए प्रयास किए जाएंगे कि उन्हें अपने ही जिले में परीक्षा केंद्र मिले ताकि उन्हें लंबी दूरी तय न करनी पड़े और उन्हें किसी प्रकार की कोई असुविधा न हो. इसी प्रकार लड़कियों के लिए भी प्रयास किए जाएंगे कि उन्हें अपने या साथ लगते जिलों में ही परीक्षा केंद्र आवंटित हों.

परीक्षा दो शिफ्टों में होगी. सुबह परीक्षा का समय 10 से 11:45 बजे तक होगा. इस शिफ्ट के लिए रिपोर्टिंग टाइम सुबह 8:30 बजे होगा. इसी प्रकार शाम की शिफ्ट का समय तीन से 4:45 बजे तक होगा. इस शिफ्ट के लिए रिपोर्टिंग टाइम दोपहर 1:30 बजे होगा.परीक्षा नेशनल टेस्टिंग एंजेसी (एनटीए) द्वारा ली जाएगी. परीक्षा के लिए 11 लाख 36 हजार 874 अभ्यर्थियों ने पंजीकरण करवाया है.

चंडीगढ़ समेत प्रदेश के 17 जिलों में परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं. एक शिफ्ट में करीब तीन लाख परीक्षार्थी परीक्षा देने आएंगे. सात नवंबर को रिजर्व डे रखा गया है. यदि किसी कारणवश दोबारा परीक्षा करवाने की आवश्यकता पड़ती है तो 7 नवबंर को यह परीक्षा करवाई जा सकती है.

बैंक में रखे जाएंगे प्रश्नपत्र

मुख्य सचिव ने कहा कि चूंकि परीक्षा का संचालन एनटीए द्वारा किया जा रहा है, इसलिए वे अपनी मानक संचालन प्रक्रियाओं (एसओपी) के अनुसार प्रश्नपत्र बैंक में रखेंगे. इसके लिए उपायुक्त व पुलिस अधीक्षक एनटीए से समन्वय स्थापित कर प्रश्नपत्र को लाने व ले-जाने के दौरान पुख्ता सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करें.

किसी सवाल के पांचों विकल्प में कोई नहीं भरा तो कटेंगे 0.95 नंबर

सीईटी परीक्षा को नकल रहित बनाने के लिए बड़ा बदलाव किया गया है. परीक्षा में प्रश्न के उत्तर में चार विकल्पों के अलावा पांचवां विकल्प भी जोड़ा गया है. इस पांचवें विकल्प में नाट-अटेंपटिड लिखा होगा. यदि कोई अभ्यर्थी उत्तर के चार विकल्प नहीं भरता है, तो उसे पांचवां विकल्प भरना होगा. कोई भी अभ्यर्थी उत्तर खाली नहीं छोड़ सकता है. उसे पांचवां विकल्प भरना ही होगा.

सीईटी में नेगेटिव मार्किंग नहीं होगी, परंतु कोई अभ्यर्थी यदि अनिवार्य किए गए पांचवें विकल्प को नहीं भरता है तो उसके द्वारा छोड़े गए प्रत्येक प्रश्न के लिए 0.95 नंबर काटे जाएंगे. पिछली परीक्षाओं में आमतौर पर यह सवाल उठते थे कि कुछ अभ्यर्थी प्रश्नों के उत्तर खाली छोड़ देते हैं, जिनमें बाद में कोई गड़बड़ी होने की संभावना बनी रहती थी. इस बार पांचवें विकल्प को अनिवार्य रूप से भरने के कारण इस प्रकार की गड़बड़ियों की संभावना नहीं रहेगी.

प्रशासनिक अधिकारियों की जवाबदेही तय

मुख्य सचिव ने उपायुक्तों को निर्देश दिया कि भले ही सीईटी परीक्षा का संचालन एनटीए द्वारा किया जा रहा है, लेकिन इसके सफल संचालन की जिम्मेवारी प्रशासनिक अधिकारियों की है। इसलिए सभी अधिकारी अपने कर्तव्यों का पूरी निष्ठा से निर्वहन करें. जिन जिलों में एनटीए द्वारा चयनित परीक्षा केंद्रों के संचालकों ने अपनी सहमति नहीं दी है, इसके लिए उपायुक्त जिला शिक्षा अधिकारी के माध्यम से इन केंद्रों की ओर से जल्द से जल्द सहमति प्रदान की जाए. केंद्रों की सहमति प्रक्रिया हर हाल में 27 व 28 अक्टूबर तक पूरी कर ली जाए ताकि समय रहते परीक्षा के लिए संपूर्ण व्यवस्था की जा सके.

Leave a Comment

Your email address will not be published.